Goldfish ka scientific Naam kya hai | सुनहरीमछली के Top 10 वैज्ञानिक Truth

Goldfish ka scientific naam kya hai? : दोस्तो आपके जानकारी के लिए बता दें की, सरकारी एग्जाम में गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है? (सुनहरी मछली का वैज्ञानिक नाम) यह क्वेरी अधिकतर पूछी जाती है. कभी-कभी goldfish ka naam kya hai? और गोल्डफिश क्या खाती हैं? इसके रंग और आकार के बारे में भी पूछा जा सकता है तो आइए बिना देरी किये जानते हैं.

दोस्तों साथ ही इस लेख में आपको सुनहरी मछली के बारे में कुछ रोचक तथ्य की भी जानकारी मिलेगी, जहाँ आप Golden Fish के बारे में कई बातें जानकर हैरान रह जाएंगे, सुनहरी मछली की एक खास बात होती है. यानी सुनहरी मछली ताजे पानी में रहती है. Goldfish ज्यादातर जंगली और बाहरी नदियों में पायी जाती है.

यह मछली दुनिया की पहली ऐसी मछली जो सुनहरी (स्वर्ण) है. इसके अलावा ज्यादातर लोग इस मछली को पालतू बनाकर रखते हैं. इसका रंग बाकी मछली से अलग और आकर्षित होता है इसलिए इस मछली को सुनहरी मछली कहा जाता है.

Goldfish ka scientific naam kya hai सुनहरीमछली के 10 वैज्ञानिक तथ्य

विषयों की सूची

सुनहरी मछली का वैज्ञानिक नाम क्या है | Goldfish ka naam kya hai?

Goldfish ka scientific name ‘’कैरासियस ऑराटस’’ (Carassius Auratus) है. साथ ही इसे गोल्डन क्वीन नाम से जानते है. अब आप समझ गए होंगे कि कैरासियस ऑराटस का भूवैज्ञानिक नाम क्या है.

Carassius Auratus गोल्डन मछली का वैज्ञानिक नाम है, जिसे आपने अभी अभी जाना है. कैरासियस ऑराटस को हिंदी में ‘’स्वर्ण मछली’’ के नाम से भी जानते है. दोस्तों क्या आप जानते हैं कि सुनहरीमछली किस रंग की होती हैं? यदि आप नहीं जानते हैं तो हम आपको आगे बताएंगे कि सुनहरीमछली के अलग-अलग रंग और किस्मे क्या होते हैं.

वैसे इस मछली का नाम सुनहरी मछली है जिसे हिंदी में ‘’स्वर्ण मछली’’ कहा जाता है. तो आप समझ सकते हैं कि इसका रंग भी भूरा और आकर्षित ही है. तो दोस्तों अब तक आप जान ही गए और आप जो गूगल असिस्टेंट से सवाल करते है इसका जवाब आज हमने जाना है ”Ok Google Goldfish ka scientific name kya hai”, तो अब सभी को पता चल गया कि गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है. 

Goldfish ka scientific naam kya hai | सुनहरीमछली के बारे में 10 वैज्ञानिक तथ्य

goldfish ka naam kya hai (सुनहरी मछली का वैज्ञानिक नाम)Carassius auratus ( कैरासियस ऑराटस)
Gold fish Hindi Name सुनहरी मछली (स्वर्ण मछली)
Gold Fish Marathi Naam सोनेरी मासे (golden fish)
Goldfish Latin Name Carassius Gibelio Forma Auratus
सुनहरी मछली का अन्य नाम Golden Crucian Carp
आकार (Size)23 इंच (59 सेमी) की अधिकतम लंबाई
वर्ग मछली
स्थान मीठा पानी
भोजन किट, शैवाल, (एक्वेरियम में खीरा, पत्ता गोभी, पालक, गाजर आदि.)
गोल्डन फिश सबसे पहले कहा पाई गई पूर्वी एशिया

सुनहरी मछली का इतिहास?

चलिए दोस्तों अब गोल्डफिश के कुछ रहस्यमय हिस्ट्री को जानते है जिसके बारे में कुछ वैज्ञानिक अपने रिसर्च में बताते है. तो Carassius auratus यानि सुनहरी मछली का इतिहास क्या रहा होगा? सुनहरीमछली का जन्म कैसे हुआ? और इसके कितने किस्मे है? यह सवाल है जिसका जवाब आज जानेंगे. इसके अलावा यह भी जानेंगे कि सुनहरी मछली सबसे ज्यादा कहां पाई जाती है.

गोल्डफिश यानि सुनहरीमछली सबसे ज्यादा पूर्वी एशिया में पाई जाती है. गोल्डफिश का जन्म पूर्वी एशिया (पूर्वी एशिया – चीन, हांगकांग, जापान, आदि.) में हुआ था. क्या आप जानते हैं goldfish ka scientific name कैरासियस ऑराटस था. शायद इसका जवाब हाँ है.

जैसा कि हमने आपको पहले बताया, पूर्वी एशिया में सुनहरीमछली सबसे ज्यादा पाई जाती है. Carassius auratus को पहली बार 17 वीं शताब्दी में यूरोप में पाया गया था.

इसके अलावा कई लोग गोल्डफिश के सम्मान में एक दूसरे को पालतू जानवर के रूप में उपहार देने लगे. इसके अलावा एक कपल ने अपनी सालगिरह पर सबसे पहले गोल्डफिश गिफ्ट की, कहा जाता है कि तभी से इस उपहार को देने की प्रथा शुरू हो गई.

फिर धीरे-धीरे सुनहरी मछलियों की संख्या बढ़ने लगी.

सुनहरीमछली की खोज १८५० के आसपास हुई थी, इसके अलावा United Nations भी सुनहरीमछली की खोज में अमेरिका (United States of America) में बहुत लोकप्रिय हुआ. कहा जाता था की इस खोज से अमेरिका (USA) को बहुत फायदा हुआ.

सुनहरीमछली की लंबाई और आकार – Ok Google Goldfish ki Lambai kya hai Batao

सुनहरीमछली 23 इंच (59 सेमी) की अधिकतम लंबाई और 9.9 पाउंड (4.5 किग्रा) के अधिकतम वजन तक बढ़ सकती है, हालांकि यह दुर्लभ है; अधिकांश व्यक्तिगत सुनहरीमछलियाँ इस आकार के आधे से भी कम हो जाती हैं. इष्टतम स्थितियों में, सुनहरीमछली 20 वर्ष से अधिक जीवित रह सकती है (विश्व रिकॉर्ड 49 वर्ष है); ज्यादातर घरेलू सुनहरी मछलियां आमतौर पर केवल छह से आठ साल ही जीवित रहती हैं, क्योंकि उन्हें अक्सर एक्वैरियम में रखा जाता है.

सुनहरीमछली वैज्ञानिक वर्गीकरण – Goldfish scientific classification
किंगडम Animalia
संघChordata
कक्षाActinopterygii
आदेशCypriniformes
परिवारCyprinidae
जीनसCarassius
गोल्ड फिश की प्रजाति C. auratus
गोल्ड फिश की उप-प्रजातिC. A. auratus / C. A. gibellio
Trinomial name (Scientific Name)Carassius Auratus (Linnaeus, 1758)

सुनहरीमछली के रंग क्या हैं?

चलिए अब आपको बताते हैं. सुनहरी मछली कौन से रंग की होती है और किस मछली में कौन से रंग पाए जाते हैं. वैसे तो सभी मछलियां बेहद खूबसूरत होती हैं, लेकिन सुनहरी मछली में अलग-अलग रंग पाए जाते हैं. इसलिए उसका मतलब ज्यादा से ज्यादा खूबसूरत होता है, तो आइए अब जानते हैं. कैरासियस ऑराटस मछली किस रंग की होती है?

सुनहरी मछली का रंग:-
  1. भूरी सुनहरीमछली (Brown goldfish)
  2. पीली सुनहरी मछली, (Yellow goldfish)
  3. नारंगी सुनहरीमछली, (Orange goldfish
  4. सफेद सुनहरीमछली, (White goldfish)
  5. रेट गोल्ड फिश, (Rate goldfish)
  6. काली सुनहरी मछली, (Black goldfish)

Goldfish ka scientific naam kya hai – सुनहरीमछली क्या खाती हैं?

सुनहरी मछलियां क्या खाती हैं, कैरसियस ऑराटस नदियों के साफ पानी और घरेलू इनडोर एक्वेरियम में पाए जाने वाले इन दोनों का खाना (खाना) बिल्कुल अलग होता है.

सुनहरीमछली फल और सब्जियां खाती हैं. इसके अलावा वे सब्जियों में, खीरा, पत्ता गोभी, पालक, गाजर आदि चीजें खाना पसंद करते हैं. इसके अलावा सुनहरी मछली संतरा, केला, अंगूर, फल खाना भी पसंद करती है, लेकिन उन्हें सीमित मात्रा में ही देना चाहिए,

अगर सुनहरीमछली के लिए खाना बहुत कम है, या बहुत ज्यादा है, तो यह उसके लिए बहुत बुरा हो सकता है। एक्वेरियम में सुनहरी मछली को कितना खाना चाहिए और सुनहरीमछली को कितने टाइम बाद खाने की जरूरत होती है? यह सभी का कॉमन सवाल हो सकता है तो आइए जानते हैं.

सुनहरी मछली को मान्यता लिखिए खाना देना चाहिए – न ज्यादा खाना देना चाहिए और न ही कम खाना देना चाहिए,

उसे पर्याप्त मात्रा में भोजन दिया जाना चाहिए. क्योंकि कम और ज्यादा खाना उसकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है.

यदि वह कम खाना खाती है. तो यह उसके लिए हानिकारक हो सकता है, और वह अधिक खाना खाती है, तब भी यह चीज उसके लिए हानिकारक हो सकती है. इसका उनके स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ सकता है. यदि आप कैरसियस ऑराटस मछली को बहुत अधिक खिलाते हैं, तो जानकारी के लिए बता दू की एक सुनहरी मछली 2 सप्ताह तक बिना भोजन के रह सकती है. मतलब जरुरत से ज्यादा खाना गोल्डफिश के लिए हानिकारक है.

सुनहरीमछली की किस्में कितनी है?

सुनहरी मछली के बारे में, उसके पालतू किस्मी के बारे में, जो ऐसी सुनहरी मछली की किस्में हैं. जिसकी देखभाल हम अपने घर पर कर सकते हैं. उसके बारे में ज़रुरी जानकारी –

  • आम सुनहरीमछली, (Common goldfish)
  • ओरंदा, (Calico Oranda)
  • पर्लस्केल, (Pearlscale goldfish)
  • रयुकिन, (Calico Ryukin goldfish)
  • शुभंकिन, (Shubunkin goldfish)
  • टेलीस्कोपिक आई या डेमेकिन, (butterfty Telescopic goldfish eye or demekin)
  • रैंचू, (Ranchu goldfish)
गोल्डफिश के बारे में 6 तथ्य (Truths) – Goldfish ka scientific naam kya hai

– सुनहरीमछली का नाम उनके गलफड़ों के अंदर की तरफ झिलमिलाते सुनहरे रंग से मिलता है. सुनहरीमछली के कई अलग-अलग रंग होते हैं, लेकिन ये सबसे आम रंग हैं.

– सुनहरी मछली का एक अन्य सामान्य नाम “eye” या ”goldfish eye” है.

– गोल्डफिश में गलफड़े होते हैं, ठीक वैसे ही जैसे मछली में होती है. इसका मतलब है कि उन्हें ताजे पानी की जरूरत है.

– युवा सुनहरीमछली को “cubes” कहा जाता है.

– यदि आपने कभी किसी सुनहरी मछली को “तैरते” देखा है, तो आपको यह सोचने के लिए मजबूर किया जा सकता है कि यह वास्तव में उल्टा तैर रही थी, जिसका सिर पानी में और पूंछ हवा में थी. ऐसा इसलिए है क्योंकि सुनहरी मछली की तैराकी तकनीक वास्तव में मछली की तुलना में मक्खी के समान है.

– कुछ रिसर्च में यह पता चला है की जंगल में, सुनहरीमछलियां अच्छी तरह से छलावरण करती हैं, अपनी निजी भूमिगत गुफा में रहती हैं.

सुनहरीमछली के बारे में 10 साइंटिफिक Truths – Goldfish ka scientific naam kya hai :-
  1. प्राचीन ग्रीस में, सुनहरीमछली को “cantharus” कहा जाता था.
  2. सुनहरीमछली “goboprotein” नामक तरल माध्यम में तैरती है.
  3. सुनहरीमछली उन माताओं से पैदा होती हैं जो उपजाऊ और बाँझ दोनों होती हैं.
  4. संयुक्त राज्य अमेरिका में लगभग 99% सुनहरी मछलियाँ मादा हैं.
  5. नर सुनहरीमछली शल्क मछली नहीं खाते.
  6. फ्लोरिडा के नॉर्थ मियामी में एक गोल्डफिश म्यूजियम है.
  7. एक सुनहरी मछली का तालाब 10,000 सुनहरी मछलियों का घर हो सकता है.
  8. स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंस ने बताया कि सुनहरीमछली चुनाव परिणामों की भविष्यवाणी कर सकती है.
  9. एक्वेरिया में सुनहरी मछली प्रतिदिन एक चौथाई मछली के टुकड़े से भी कम खाती है.
  10. फीनिक्स, एरिजोना में गोल्डफिश टूर्नामेंट में गोल्डफिश का वजन 1999 और 2002 में समान था.
निष्कर्ष –

Goldfish ka scientific naam kya hai – सुनहरी मछली एक वास्तविक जलीय पालतू जानवर है क्योंकि यह पानी में रहती है. प्राचीन समय में, इसका उपयोग घायल सैनिकों के इलाज के लिए किया जाता था, क्योंकि सुनहरी मछली रक्त परिसंचरण में सहायता के लिए स्वाभाविक रूप से अपने पंख छोड़ देती है.

एक सुनहरी मछली जिसे गोल्डआई (goldeye) भी कहा जाता है, एक छोटी मछली होती है जिसकी लंबाई आमतौर पर एक से दो इंच के बीच होती है. जब कई जलीय पालतू जानवरों की बात आती है तो सुनहरी मछली नियम का अपवाद है क्योंकि यह कुत्तों और बिल्लियों के साथ मिलती है. सुनहरीमछली की उत्पत्ति पूर्वी एशिया से हुई थी. सुनहरीमछली को सबसे पहले भारतीय उपमहाद्वीप के आसपास विकसित किया गया था. सुनहरीमछली को कार्टफिश, कोरियाई मछली, डोरी और गोल्डआई के नाम से भी जाना जाता है.

दोस्तों उम्मीद है कि आपको ‘’Goldfish ka scientific naam kya hai – google goldfish ka scientific name’’ यह लेख पसंद आया होगा, अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ साझा करें और हमारे साथ जुड़े रहें और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत होकर अपना ज्ञान बढ़ाएं,


इसे अवश्य पढ़े – CNG FULL FORM KYA HAI

इसे अवश्य पढ़े – DANCE ME CAREER | DANCE PLUS SECRETE TIPS


UrHindi News FAQs –

Que 1. गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम क्या है?

गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम ”carassius auratus” है.

Que 2. मुझे अपनी सुनहरी मछली का क्या नाम रखना चाहिए?

सुनहरी मछली का नाम कुछ नए अंदाज में रखना चाहिए जैसे, ”फेंकेन” ”भूरी” या फिर ”manike mage hithe” (जो एक कन्नडा न्यू सांग है) इस सांग पर रखना चाहिए, जो हर किसी के जुबान पर है.

Que 3. क्या सुनहरी मछली नल के पानी में रह सकती है?

सुनहरी मछली सीधे नल से अनुपचारित पानी में नहीं रह सकती है, ऐसा इसलिए है क्योंकि नल के पानी में ऐसे रसायन होते हैं जो आपकी मछली के लिए खराब होते हैं.

Que 4. गोल्डफिश क्या खाती हैं?

गोल्डफिश शैवाल, किट, फल और सब्जियां खाती हैं.

Que 5. गोल्डफिश सबसे ज्यादा कहां पाई जाती है?

गोल्डफिश यानि सुनहरीमछली सबसे ज्यादा पूर्वी एशिया में पाई जाती है.

Leave a Comment

error: Content is protected !!